आजादी की चिंगारी और उर्दू सहाफ़त (पत्रकारिता)

उर्दू सहाफ़त का माज़ी भी रोशन था और मुस्तक़बिल भी ताबनाक है. मुल्क भर में उर्दू सहाफत का 200 सालां जश्न मनाया जा रहा है, मुल्के अज़ीज़ हिन्दुस्तान में उर्दू सहाफ़त का आग़ाज़ आज से 200 साल क़बल 1822 में हुआ था, 27 मार्च 1822 को पहला उर्दू अखबार जाम-ए-जहां नुमा कलकत्ता से प्रकाशित हुआContinue reading “आजादी की चिंगारी और उर्दू सहाफ़त (पत्रकारिता)”

तारीफों के पुल के नीचे,मतलब की नदियाँ बहती हैं: अमीर हाशमी

तारीफों के पुल के नीचे,मतलब की नदियाँ बहती हैं। – अमीर हाशमी

‘फोटोग्राफर्स डिलाइट’ – आनन्दबहादुर

रचनाकार ने सरल और सहज शब्दों में सृजन कर फोटोग्राफी के मध्यांतर संबंधों को रोचक ढंग से प्रतिपादित किया है। यही इसकी मुख्य विशेषता है। यह उम्दा व भावप्रधान रचनाओं से परिपूर्ण है। इस कहानी में लगभग सभी किरदार अपने आप में जीवंत कविताएं हैं, जो हर विषय को छूती हैं। चिंतन और मनन केContinue reading “‘फोटोग्राफर्स डिलाइट’ – आनन्दबहादुर”