वादियों सी ठंड है उसमें: अमीर हाशमी की क़लम से

वादियों सी ठंड है उसमें,पूर्णिमा सी मद्धम चांदनी,◆ज़ुल्फ़ गिरे है होटों पे जैसे,आफ़ताब की ज़र्द रौशनी,◆खलाएं बिखेरे दूर तलक़,मुश्क़ महक ऐसी नाज़नीं,◆रेगिस्तां में जैसे ज़र्ब हवाएं,बहती हैं मुझमें ऐसी शायरी.

FILM ANNOUNCEMENT

With the love and support of my friends, family and fans, a big dream of my life is going to be fulfilled today, Today on 12 October 2020, I announce my first Bollywood feature film, The production of the film will begin in the second week of February 2021 InshaAllah, The story of the filmContinue reading “FILM ANNOUNCEMENT”

हर एक की हम पसन्द ठहरे, हर एक का ईंतेखाब समझा सबने: अमीर हाशमी की कलम से

हर एक की हम पसन्द ठहरे, हर एक का ईंतेखाब समझा सबने, हम ही को अच्छा बताया सबने, हम ही सबसे खराब निकले…! Har ek ki hum pasand thahre, har ek ka intekhab samjha sabne, Hum hi ko accha bataya sabne, hum hi sabse kharab nikle. . . . . . #अमीर_हाशमी_की_कलम_से . . .Continue reading “हर एक की हम पसन्द ठहरे, हर एक का ईंतेखाब समझा सबने: अमीर हाशमी की कलम से”

डर, क़ानून, नियम, प्रशासन नाम हैं तेरी-मेरी लाचारी के: अमीर हाशमी की कलम से

डर, क़ानून, नियम, प्रशासन नाम हैं तेरी-मेरी लाचारी के, जागीर तेरी-मेरी शराब है, चल मैख़ाने में बात करते हैं. . . . Dar, Kanoon, Niyam, Prashasan naam hain teri-meri lachari ke, Jageer teri meri sharab hain, Chal maikhane me baat karte hain. . . . . . #अमीर_हाशमी_की_कलम_से . . . #urdu #poetry #urdupoetry #rekhtaContinue reading “डर, क़ानून, नियम, प्रशासन नाम हैं तेरी-मेरी लाचारी के: अमीर हाशमी की कलम से”

जो फिल्मों के किरदार तुमने देख रखें हैं: अमीर हाशमी

जो फिल्मों के किरदार तुमने देख रखें हैं, ये किसी और ने अपनी मेज़ पर लिखें हैं. Jo filmo ke kirdar tumne dekh rakhe hain, Yeh kisi aur ne apni mez par likhe hain. #अमीर_हाशमी_की_कलम_से . . . #urdu #poetry #urdupoetry #rekhta #literature #jashnerekhta #hindikavita #urdulovers #amirhashmikikalamse #amirhashmi #amirhashmilive #shayari #poem #rekhtalive #poetrylovers #shayarilover #mohabbatContinue reading “जो फिल्मों के किरदार तुमने देख रखें हैं: अमीर हाशमी”

मुझमें एक पूरा शहर बसता था

मुझमें एक पूरा शहर बसता था, वीरान हो गया तेरे जाने के बाद. Mujhme ek pura shahar basta tha, Veeran ho gaya tere jaane ke baad. #अमीर_हाशमी_की_कलम_से . . . . #amirhashmikikalamse #amirhashmi #amirhashmilive #meerfoundation #urdu #poetry #urdupoetry #rekhta #literature #jashnerekhta #hindikavita #urdulovers #shayari #poem #rekhtalive #poetrylovers #shayarilover #mohabbat #tiktok #writers #writers✍️ #ghalib #hindishayari #sadshayariContinue reading “मुझमें एक पूरा शहर बसता था”

मैं बुरा ना सोचता रहा उम्र भर किसी का

Baapu, this one dedicated to you.मैं बुरा ना सोचता रहा उम्र भर किसी का,यही वजह थी “अमीर” मेरे बुरा होने की. ..Main bura na sochta raha umr bhar kisi ka,Yahi wajah thi “amir” mere bura hone ki.#अमीर_हाशमी_की_कलम_से….#amirhashmikikalamse #amirhashmi#amirhashmilive #meerfoundation #urdu #poetry #urdupoetry #rekhta #literature #jashnerekhta #hindikavita #urdulovers #shayari #poem #rekhtalive #poetrylovers #shayarilover #mohabbat #tiktok #writersContinue reading “मैं बुरा ना सोचता रहा उम्र भर किसी का”

चंद मिसरे, कुछ अल्फ़ाज़: अमीर हाशमी

चंद मिसरे, कुछ अल्फ़ाज़, दो ख़राब नज़्म के बाद क़लम रूक जाती हैं, मेरी क़लम की निभ पर स्याही, तेरी रूह से लिपट जाने के बाद आती हैं. Chand misare, kuchh alfaaz, do kharaab nazm ke baad qalam ruk jaati hain, Meri qalam ki nib par syaahi, teri rooh se lipat jaane ke baad aatiContinue reading “चंद मिसरे, कुछ अल्फ़ाज़: अमीर हाशमी”

चुप हूँ मुझे सुक़ून मयस्सर हो जैसे: अमीर हाशमी

एहसास में शदीद तलातुम के बावजूद, चुप हूँ मुझे सुक़ून मयस्सर हो जैसे. . . . Ehsaas Mein Shadeed Talatum Ke Bawjood, Chup Hoon Mujhe Sakoon Mayassar Ho Jaise. . . . #अमीर_हाशमी_की_कलम_से . . . . #amirhashmikikalamse #amirhashmi #amirhashmilive #meerfoundation #urdu #poetry #urdupoetry #rekhta #literature #jashnerekhta #hindikavita #urdulovers #shayari #poem #rekhtalive #poetrylovers #shayarilover #mohabbatContinue reading “चुप हूँ मुझे सुक़ून मयस्सर हो जैसे: अमीर हाशमी”