तारीफों के पुल के नीचे,मतलब की नदियाँ बहती हैं: अमीर हाशमी

तारीफों के पुल के नीचे,मतलब की नदियाँ बहती हैं। – अमीर हाशमी