Student Politics in Pt. Ravishankar Shukla University

After the establishment of Ravishankar University, from 1974 to 1988, in total 11 times, the student leader of Brahmanpara has held this post in the election of the university president 7 times. Till 1983 Ravi Shankar University was the only university in Chhattisgarh. At that time about 77 colleges came under it. In the electionContinue reading “Student Politics in Pt. Ravishankar Shukla University”

“Everything is created twice, first in the mind then in reality.” RS : ft. Amir Hashmi

“Everything is created twice, first in the mind then in reality.” I absolutely love this quote, it has two perspectives for me. FEAR Many worry about an event that might happen in the future (I was one of them), so they potentially live the moment twice. Before the event and second IF it happens. IContinue reading ““Everything is created twice, first in the mind then in reality.” RS : ft. Amir Hashmi”

राहुल गांधी ने लिया राजनीतिक संन्यास #BharatJodoYatra

तक़रीबन 100 वर्षो के बाद इतिहास दोहराया जा रहा हैं, कांग्रेस के आला पद पर किसी ग़ैर गांधी के स्थापथ्य को आप गांधी की हार समझने की भूल ना करें। 1922 में चौरा-चौरी की हिंसक घटना के मद्देनजर बापू ने अपना असहयोग आंदोलन वापस ले लिया था, इसका नतीजा यह हुआ कि कांग्रेस 2 गुटोंContinue reading “राहुल गांधी ने लिया राजनीतिक संन्यास #BharatJodoYatra”

Amir Hashmi’s “JOHAR GANDHI” will be released on Gandhi Jayanti.

The book ‘Johar Gandhi’, focusing on the native freedom fighters of Chhattisgarh state and Mahatma Gandhi’s visits and influence in Chhattisgarh, will be released on 2nd October Gandhi Jayanti Diwas at Vrindavan Hall, Civil Line, Raipur. Gandhian thinkers from Delhi, families of freedom fighters of Chhattisgarh, Cabinet ministers of Chhattisgarh Govt. and opposition leaders willContinue reading “Amir Hashmi’s “JOHAR GANDHI” will be released on Gandhi Jayanti.”

गांधी जयंती पर होगा अमीर हाशमी की “जोहार गांधी” का विमोचन

छत्तीसगढ़ राज्य के मूल स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों और महात्मा गांधी की छत्तीसगढ़ की यात्राओं तथा प्रभाव पर केंद्रित किताब ‘जोहार गांधी’ का विमोचन 2 अक्टूबर गांधी जयंति दिवस पर वृन्दावन हॉल, सिविल लाइन, रायपुर में साय:काल किया जावेगा। आयोजन में शामिल होने दिल्ली से गांधीवादी विचारक, छत्तीसगढ़ के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के परिवार, छत्तीसगढ़ शासनContinue reading “गांधी जयंती पर होगा अमीर हाशमी की “जोहार गांधी” का विमोचन”

का हो भइया… ये ठीक नहीं किए: राजू श्रीवास्तव

राजू भइया हम हंसना अच्छे से सीखे भी नहीं थे और आप चले गए… ये आपने ठीक नहीं किया। स्कूल के दिनों में अपने और दोस्तों के मजे के लिए शिक्षकों की नकल उतारने वाले उस बच्चे को कहां पता था कि वह एक दिन में लाखों लोगों को गुदगुदाएगा और हास्य का चेहरा बनContinue reading “का हो भइया… ये ठीक नहीं किए: राजू श्रीवास्तव”

The most precious and powerful thing in the world is available for free, so keep smiling. – amir hashmi

The most precious and powerful thing in the world is available for free, so keep smiling. – amir hashmi

Website & Blogs Income per month ? Start your blog now

First, you can only make money if you decide to monetize your blog. There are however many ways. It also depends on your niche. Some niches can be easily monetized. Others are really not easy especially if you don’t get the right way to monetize. Adsense, Sponsored posts, direct ads, affiliate reviews, etc are commonContinue reading “Website & Blogs Income per month ? Start your blog now”

शख़्सीयत: सुरूर होदा | अमीर हाशमी | बिहार | हिन्दी

शख़्सीयत | अमीर हाशमी | बिहार | हिन्दी सुरूर होदा बिहार के उन गुमनाम शख्सियतों में से एक हैं जिन्होंने समाजवादी विचारधारा को अपने जीवन में पूर्ण रूप से आत्मसात कर लिया था। सुरूर साहेब का जन्म 1928 में बिहार के छपरा, बिहार में हुआ था। उन्होंने इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की थी फिर उन्होंनेContinue reading “शख़्सीयत: सुरूर होदा | अमीर हाशमी | बिहार | हिन्दी”

आजादी की चिंगारी और उर्दू सहाफ़त (पत्रकारिता)

उर्दू सहाफ़त का माज़ी भी रोशन था और मुस्तक़बिल भी ताबनाक है. मुल्क भर में उर्दू सहाफत का 200 सालां जश्न मनाया जा रहा है, मुल्के अज़ीज़ हिन्दुस्तान में उर्दू सहाफ़त का आग़ाज़ आज से 200 साल क़बल 1822 में हुआ था, 27 मार्च 1822 को पहला उर्दू अखबार जाम-ए-जहां नुमा कलकत्ता से प्रकाशित हुआContinue reading “आजादी की चिंगारी और उर्दू सहाफ़त (पत्रकारिता)”

स्वेज नहर की दिलचस्प कहानी

स्वेज नहर मिस्र में है जो भू-मध्य सागर को लाल सागर से जोड़ती है भूमध्य सागरीय तट पर स्थित पोर्ट सईद से शुरू हो कर स्वेज शहर के पास लाल सागर में जा मिलती है इन दोनों शहरों के बीच गुजरने वाली स्वेज नहर की लंबाई शुरू में 100 मील या 164 किलोमीटर और चौड़ाईContinue reading “स्वेज नहर की दिलचस्प कहानी”

भोपाल की जामा मस्जिद की दीवारों से सटी दुकानों में होती है पूजा आरती; क्या कर्नाटक इससे कोई सीख लेगा

भोपाल में भारत की सबसे बड़ी और दुनियाँ की 10 बड़ी मस्जिदों में से एक Tajul Masajid है, इसी शहर के बीचों बीच नवाब #Qudsia_Begam की 1832 में बनवाई एक बहोत ही ख़ूबसूरत #जामा_मस्जिद भी मौजूद है. इस जाम मस्जिद की ख़ासियत यह है कि इस मस्जिद के ground floor पर और पूरे complex मेंContinue reading “भोपाल की जामा मस्जिद की दीवारों से सटी दुकानों में होती है पूजा आरती; क्या कर्नाटक इससे कोई सीख लेगा”

Press Release: तत्कालीन मध्य प्रांत के मूल के स्वतंत्रता सेनानियों पर लिखी गई क़िताब जोहार गांधी का जल्द होगा प्रकाशन: अमीर हाशमी

अमीर हाशमी द्वारा लिखित तत्कालीन मध्य भारत प्रांत के मौजूदा छत्तीसगढ़ राज्य के मूल स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों तथा महात्मा गांधी की इस भूमि पर की गई दो यात्राओं पर केंद्रित किताब ‘जोहार गांधी’ का विमोचन जल्द होने जा रहा हैं पुस्तक के लेखक अमीर हाशमी के अनुसार भारतीय स्वतन्त्रता आन्दोलन के दौरान, राष्ट्रपिता महात्मा गांधीContinue reading “Press Release: तत्कालीन मध्य प्रांत के मूल के स्वतंत्रता सेनानियों पर लिखी गई क़िताब जोहार गांधी का जल्द होगा प्रकाशन: अमीर हाशमी”

तारीफों के पुल के नीचे,मतलब की नदियाँ बहती हैं: अमीर हाशमी

तारीफों के पुल के नीचे,मतलब की नदियाँ बहती हैं। – अमीर हाशमी

लता मंगेशकर की मौत पर छींटकशी: विश्वादीप ज़ीस्त

एक बार फिर से वही सब कुछ हो रहा है। किसी महान व्यक्तित्व की मौत के तुरंत बाद उस पर वैचारिकता के आधार पर छींटाकशी। यही हमने अटल बिहारी वाजपेयी के वक़्त देखा था, यही हमने डॉ. राहत इंदौरी के वक़्त देखा था, और अब यही हम लता मंगेशकर के वक़्त देख रहे हैं। अगरContinue reading “लता मंगेशकर की मौत पर छींटकशी: विश्वादीप ज़ीस्त”

बिलासपुर के हिदायत अली “कमलाकर”

जितने अच्छे कवि थे उतने ही अच्छे इंसान थे हिदायत अली ‘कमलाकर’ जी। वे हमारे शहर की गंगा-जमुनी संस्कृति की पहचान रहे हैं। उनकी कृति “किसना मोहे तारो” को लेकर उन्हें मैं बिलासपुर के रहीम खानखाना की उपाधि दूं तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। भारतेंदु साहित्य समिति में मेरी मुलाकात उनसे हुई।इसके बाद अनेक वर्षोंContinue reading “बिलासपुर के हिदायत अली “कमलाकर””

Does Rajeev Gandhi’s “The Ganga Action Plan 1986” Failed?

In India, rivers are the lifeline and the primary source of drinking, agricultural and industrial water. It flows through villages, towns, and cities and nourishes the land. Rivers also carry the dirt of towns and cities. Uneven urbanization, industrialization, and ignorance are contaminating our rivers. Thus the lifeline gets transformed into a deadline. A similarContinue reading “Does Rajeev Gandhi’s “The Ganga Action Plan 1986” Failed?”

Tom Alter on the “Feminist movement”

It seems Tom Alter whose 3rd death anniversary falls next week, had a lot to say about a diverse array of issues: “mental bankruptcy regarding cultural matters”, “politics of reservation”, “the feminist movement”. The other day Dr Ather Farouqui posted excerpts from his English translation of Mr Alter’s autobiography originally written in Urdu. Sadly, theContinue reading “Tom Alter on the “Feminist movement””