Bastar Dussehra

In frame: Bastar Prince His Highness Shree Kamal Chandra Bhanjdeo, Bastar Dussehra is the unique cultural trait of Chhattisgarh. Celebrated by the local people of the state with sufficient vigor, the festival of Dussehra. During Dussera, the inhabitants of Bastar organizes special worship ceremonies at the Danteswari temple of Jagadalpur.

देशभर में दशहरे का त्योहार बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है, हमारे देश में एक जगह ऐसी भी है जहां दशहरा पर्व 10 दिनों तक नहीं बल्कि 75 दिनों तक मनाया जाता है।

Picture: Framesbyabhishek

वह जगह है छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले का जगदलपुर, यहां का दशहरा छत्तीसगढ़ या भारत ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी प्रसिद्ध है। देश-विदेश के पर्यटक यहां दशहरा देखने आते हैं। बस्तर के दशहरे में पौराणिक, ऐतिहासिक, स्थानीय वनवासी परंपराओं और तंत्र साधना का मेल नजर आता है। दशहरे का मतलब यहां पर परंपरा, प्रकृति और मां दांतेश्वरी देवी की पूजा से है। 13वीं शताब्दी में बस्तर के राजा पुरुषोत्तम देव ने इस त्योहार की परंपरा शुरू की थी।

Picture: Framesbyabhishek

बस्तर दशहरा में रावण वध की परंपरा नहीं है, यहां बस्तर की आराध्य देवी माई दंतेश्वरी के नाम से दुनिया का सबसे बड़ा उत्सव आदिवासी मनाते हैं। इसमें नवरात्र में लकड़ी का विशाल रथ नगर परिक्रमा करता है। रथ के लिए लकड़ी ककागलुर से आती है। ग्रामसभा के लकड़ी देने से मना करने से गतिरोध की स्थिति बन गई है।

Picture: Framesbyabhishek

दशहरा की शुरुआत में लकड़ी का एक बड़ा टुकड़ा ककागलुर के ग्रामीण बैलगाड़ी में लादकर दंतेश्वरी मंदिर लाते हैं। इसे ठुरलू खोटला कहा जाता है। इसी लकड़ी से रथ निर्माण का काम शुरू होता है। इसके बाद दशहरा समिति वहां के जंगल से ढाई से तीन मीटर मोटाई वाले करीब 60-70 वृक्ष कटवाती है। मोटे तने वाले इन वृक्षों की आयु सौ साल तक होती है।

Published by Amir Hashmi

Amir Hashmi is an Indian Film Producer, Director, Writer, and Actor awarded the ‘Film excellence award’ by the Ministry of Information and Broadcasting, Govt. of India. Apart from being an artist, he is an outstanding speaker who hosted hundreds of inspiring workshops and campaigns amongst the youth. Awarded ‘Sangeet Visharad’ in Hindustani classical singing. He consistently promotes culture, humanity, and morality, and believes in truth and non-violence, besides being known for his environmental and patriotic initiatives.

One thought on “Bastar Dussehra

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: