Aur bhee kaam hain zamane me…

और भी काम है ज़माने में ज़रूरी “अमीर”,
यूं दिल उधेड़-उधेड़ कर सीना बन्द करो.

#अमीरहाशमी की कलम से…

Aur bhi kaam hai zamane me zaruri “amir”,

Yuu dil udhed-udhed kar seena band karo.

#amirhashmi ki kalam se…

%d bloggers like this: