Mai jab bhi khud ko

मैं जब भी खुद को काबिल तस्लीम करता हूं,
तू कहीं से देख ले बस यही मिन्नत करता हूँ.

#अमीरहाशमी की कलम से…

Main jab bhi khud ko kabil tasleem karta hu,

Tu kahi se dekh le bas yahi minnat karta hu.

#byamirhashmi

%d bloggers like this: