सुलगती लकड़ी…

ग़म में उठाई थी जो तेरे नाम की एक सुलगती लकड़ी,

वो ग़म लगता है कि चला गया है मगर धुँआ जारी है..

#अमीरहाशमी की कलम से…

%d bloggers like this: