अजीब दौर चल पड़ा है सियासत का…

अजीब दौर चल पड़ा है सियासत का मुल्क़ में, 

चाहो तो ज़मीर बेच लो, या चाहे क़त्ल जाओ. 

#अमीरहाशमी की कलम से…

%d bloggers like this: