नया-नया रिश्ता है तेरा-मेरा…

नया-नया रिश्ता है तेरा-मेरा,
देखो आहिस्ता चलो, और भी आहिस्ता,

देखो ज़रा धीमे रखना कदम,
ज़ोर से बज ना उठे, पैरों की आवाज़ कहीं,

काँच के ख़्वाब हैं मेरे,
ख़्वाब टूटेंगे जो मेरे, तो मैं जाग जाऊंगा

 

#byamir #ForSamndar #04OCT2016

%d bloggers like this: